Headline • महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड• कर्नाटक संकट का असर राज्यसभा में• अहमदाबाद की अदालत  में राहुल गांधी• व्हाइट हाउस में भरा बारिश का पानी • क्या अनुपमा परमेसरन को डेट कर रहे जसप्रीत बुमराह• पाकिस्तान को आंख दिखाता नाग• यूएई और भारत के बीच द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर होगी बात• कर्नाटक में सियासी संकट• सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों है: राहुल गांधी


चीन को 28 साल का सबसे बड़ा झटका लगा है। वर्ष 2018 में दुनिया की दूसरी बड़ी इकोनॉमी चीन की इकोनॉमिक ग्रोथ 6.6 फीसदी रही, जो बीते 28 साल में सबसे कम रही। माना जा रहा है अमेरिका के साथ चल रही ट्रेड वार और एक्सपोर्ट में गिरावट से चीन को बड़ा नुकसान हुआ है। ऐसे में भारत के ग्रोथ के मामले में ड्रैगन से आगे निकलने की संभावनाएं काफी हद तक बढ़ गई हैं।

बीजिंग ने सोमवार को बताया कि चीन की अर्थव्यवस्था 2018 की आखिरी तिमाही में देश की जीडीपी कम होकर 6.6 फीसद हो गई, जो 28 सालों का सबसे कमजोर ग्रोथ रेट है।

चीनी जीडीपी के आंकड़ें हालांकि विश्लेषकों के अनुमान के मुताबिक ही हैं, जिसमें उन्होंने इसका जिक्र किया था। हालांकि उन्होंने किसी प्रोत्साहन पैकेज को देने की संभावना से इनकार किया है। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने टोक्यो के डाइवा इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च के चीफ रिसर्चर नाओटो सैटो के हवाले से बताया है, 'सरकार को अर्थव्यवस्था को समर्थन देना ही होगा। वह इंफ्रास्ट्रक्चर पर खर्च को बढ़ा सकते हैं और बैंक के रिजर्व रखे जाने की मात्रा को कम कर सकते हैं। इसलिए हमें पूंजीगत खर्च को लेकर चिंतित होने की कोई जरूरत नहीं है।'

संबंधित समाचार

:
:
: