Headline • 'मेक इन इंडिया': इसरो का निजी कंपनियों को पांच पीएसएलवी बनाने का न्योता !• अमेरिका के उप विदेश सचिव भारत दौरे पर, रणनीतिक मुद्दों पर चर्चा !• आर्टिकल 370: J&K में प्रतिबंध कें बाद टूजी इंटरनेट सेवाएं चरणबद्ध तरीके से धीरे धीरे हो रही बहाल !• UNSC में J&K पर चीन और पाक की हर चाल को भारत ने किया खारिज !• भाजपा को कश्मीरियों से नहीं, वहा की जमीन से है प्यार : ओवैसी• अमेरिका कर रहा एशिया-प्रशांत क्षेत्र में मिसाइल तैनाती की तैयारी, चीन की चेतावनी !• विंग कमांडर अभिनंदन को मिलेगा वीर चक्र !• चीन ने कश्‍मीर मुद्दे के समाधान के लिए UN मध्‍यस्‍थता की बात कही !• अमेरिका में बोले भारतीय राजदूत, आर्टिकल-370 खत्‍म करना भारत का आंतरिक मामला !• डिस्कवरी चैनल के प्रसिद्ध प्रोग्राम 'मैन वसेर्ज वाइल्ड' में बेयर ग्रिल्स के साथ दिखें पीएम नरेंद्र मोदी !• जम्‍मू कश्‍मीर में भारत के खिलाफ प्रोपेगेंडा चलाने वालों पर सरकार की कार्यवाही, गिलानी समेत आठ के ट्विटर एकाउंट बंद !• J&K में ईद के दौरान सरकार के विशेष इंतजाम !• मुस्लिम बहुल होने की वजह से जम्मू-कश्मीर से हटा अनुच्छेद 370 : पी चिदंबरम • अमेरिाका का पाकिस्‍तान को बड़ा झटका, अपनी कश्‍मीरी नीति में नही किया कोई बदवाल !• इमरान की बड़ी मुसकिल, पाक अधिकृत कश्‍मीर में सड़कों पर उतरे प्रदर्शनकारी • अयोध्‍या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मांगे 1949 से अब तक के सबूत, फिर से होगी जांच !• कांंग्रेस अब अनुच्‍छेद 370 खत्‍म करने की प्रकिया का करेगी विरोध !• महबूबा मुफ्ती का पीडीपी के राज्‍यसभा सांसदों को संदेश इस्‍तीफा दें या फिर निष्‍कासन का करें सामना !• अमेरिका में दिखा नस्‍लवादी इतिहास, काले व्‍यक्‍ति को घोड़े से बांधकर ले गई पुलिस !• अनुच्‍छेद 370 फैसले के बाद भारत में हो सकते है पुलवामा जैसे हमले : पाक पीएम इमरान खान • नहीं रहीं सुषमा स्वराज, 67 साल की उम्र में निधन !• अनुच्छेद 370 पर पाकिस्तान ने बुलाई आपात बैठक• राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू• अमित शाह का लोकसभा में जम्‍मू कश्‍मीर पुनर्गठन बिल पेश • मोदी सरकार का बड़ा फैसला, कश्मीर में अनुच्छेद 370 खत्म करने की सिफारिश


 

ट्रंप प्रशासन ने 2008 के मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद की गिरफ्तारी को लेकर पाकिस्तान की मंशा पर शुक्रवार को संदेह जाहिर करते हुए कहा कि पूर्व में हुई उसकी गिरफ्तारी से न तो उसकी और न ही उसके संगठन लश्कर-ए-तैयबा की गतिविधियों पर कोई फर्क पड़ा । ट्रम्प प्रशासन के एक अफसर ने शुक्रवार को रिपोर्टर्स से बातचीत के दौरान कहा, “हमने पहले भी हाफिज की गिरफ्तारी देखी है। इसलिए इस बार हम दिखावे वाली कार्रवाई की जगह ज्यादा मजबूत कदम उठाना चाहते थे ।”

2008 में मुंबई हमलों के बाद पाक ने हाफिज को हिरासत में लिया था, हालांकि बाद में उसे छोड़ दिया गया था। अंतरराष्ट्रीय दबावों की वजह से उसे अब तक करीब सात बार गिरफ्तार किया जा चुका है। इस पर अफसर ने कहा, “हाफिज को पहले भी पकड़ने के बाद छोड़ा जा चुका है। इसलिए इस बार हमारी नजर पाक सरकार के उठाए गए कदमों पर भी है।

संबंधित समाचार

:
:
: