Headline • पाकिस्तान में मुंबई हमले का मास्टर माइंड हाफिज सईद गिरफतार • सावन मास के साथ शुरू हुई कांवड़ यात्रा• एपल भारत में जल्द शुरू करेगी i-phone की मैन्युफैक्चरिंग, सस्ते हो सकते हैं आईफोन• डोंगरी में इमारत गिरने से अबतक 16 लोगो की मौत, 40 से ज्यादा लोगो के मलबे में दबे होने की आशंका : दूसरे दिन भी रेस्क्यू जारी• मुंबई के डोंगरी में 4 मंजिला इमारत गिरी; 2 की मौत, 50 से ज्यादा लोगो के मलबे में फसे होने की आशंका• IAS टोपर को किया ट्रोल, मिला करारा जवाब • देर रात देखिये चंद्रग्रहण का नजारा, लाल नज़र आएगा चाँद • बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने भारत के लिए खोले बंद हवाई क्षेत्र ।• महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड


 

बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में एक्यूट इनसेफ़िलाइटिस सिंड्रोम से मरने वाले बच्चों कि संख्या लगातार बढ़ रही है। बुधवार की सुबह ही कुछ बच्चों की मौत के साथ अब आकड़ा 140 के पार पहुच गया है, अभी ऐसे वहां बहुत बच्चें है जो ICU में भर्ती है। उनकी हालत बड़ी ही नाजुक हैं। अभी तक किसी के पास इस बिमारी का सही कारण नहीं पता है। राज्य सरकार और स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारियों की माने तो इसका असली कारण लीची है, लेकिन सब इस बात से सहमत नहीं है।

लीची के बीज में मेथाईलीन प्रोपाइड ग्लाईसीन (एमसीपीजी) की सम्भावित मौजूदगी को पहले से ही कम ग्लूकोस स्तर वाले कुपोषित बच्चों को मौत के कगार पर ला खड़ा करने के लिए ज़िम्मेदार माना जा रहा है। विशेषज्ञ की माने तो लीची को जिम्मेदार मानना गलत होगा क्योकि लीची में बहुत मात्रा में विटामिन पाया जाता है। लीची में तीन भाग की होती है पहली छिलका, दूसरा पल्प और अन्तिम बीज लेकिन अभी तक कोई प्रमाणित शोध सामने नहीं आया की पल्प में भी मेथाईलीन प्रोपाइड ग्लाईसीन की कितनी मात्रा है इसलिए यह कहना पूरी गलत होगा कि लीची ही जिम्मेदार है।

संबंधित समाचार

:
:
: