Headline • मुंबई के डोंगरी में 4 मंजिला इमारत गिरी; 2 की मौत, 50 से ज्यादा लोगो के मलबे में फसे होने की आशंका• IAS टोपर को किया ट्रोल, मिला करारा जवाब • देर रात देखिये चंद्रग्रहण का नजारा, लाल नज़र आएगा चाँद • बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने भारत के लिए खोले बंद हवाई क्षेत्र ।• महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड• कर्नाटक संकट का असर राज्यसभा में• अहमदाबाद की अदालत  में राहुल गांधी• व्हाइट हाउस में भरा बारिश का पानी • क्या अनुपमा परमेसरन को डेट कर रहे जसप्रीत बुमराह


अलीगढः जिले में बुखार व डेंगू से एक दिन के अंदर आठ लोगों की मौत हो गई, जबकि खैर विधानसभा से सटे लोधा गांव में पांच लोगों की मौत से गांव में सन्नाटा पसर गया है। गांव के लोगों की माने तो गांव के अंदर एक स्वास्थ्य समुदाय केंद्र मौजूद है लेकिन उस पर एक भी डॉक्टर तैनात नही है।

गांव के अंदर लगभग सौ से ज्यादा लोग बुखार व डेंगू की चपेट में है। और उन्हें देखने वाला कोई नही है। अगर बात करें पिछले एक माह की तो लगभग गांव में 30 से 40 लोगों की बुखार से मौत हो चुकी है। लेकिन स्वास्थ्य विभाग को इससे कोई लेना देना नही है।

लोधा ब्लॉक के गांव राइट में मोमिन खां मेहनत मजदूरी कर तीन बच्चों ( दो बेटे व एक बेटी) का पालन पोषण कर रहे थे। बीवी रिजवाना भी कुछ मदद कर देती थीं। बच्चों की उम्र आठ से 13 साल ही है। मोमिन ने बताया कि दो-तीन दिन पूर्व रिजवाना को बुखार आया। तबियत में सुधार न होने पर मंगलवार रात उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया। डॉक्टर ने तीन डिप चढ़ाई। कहा, सुबह खून चढ़ाया जाएगा। सुबह पत्नी की मौत हो गई।

इसी तरह गांव के सद्दाम पुत्र भिक्की पखवाड़े भर से बुखार से पीड़ित थे। उचित उपचार के अभाव में उसे पीलिया हो गया। उसकी भी मौत हो गई। गांव के ही एक व्यक्ति ने पूर्व विधायक जमीरउल्लाह को पांच मौत की सूचना दी तो जमीरउल्लाह गांव पहुंच गए।

पूर्व विधायक जमीर उल्लाह ने ही सीएमओ को गांव रायट में उल्टी-दस्त व बुखार से हुई मौत की सूचना दी। सीएमओ ने खैर सीएचसी की 12 सदस्यीय टीम, जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. राहुल कुलश्रेष्ठ के साथ खुद गांव पहुंच गए। यहां 80 मरीजों की जांच की। 

सीएमओ ने बताया कि पांच नहीं चार मौत हुई हैं जिनमे दो नेचुरल डेथ हुई है। दो की बुखार से मौत हुई है। हमने गांव में सभी इंतजाम कर दिए हैं। 

केंद्र व प्रदेश सरकारों द्वारा स्वास्थ्य विभाग पर करोड़ों और अरबों रुपये पानी की तरह बहाया जा रहा है। लेकिन सुविधाओं की बात करें तो वह पानी की तरह ही नजर आ रही हैं।

अलीगढ़ में बुखार व डेंगू की बीमारी ने लोगों को अपनी चपेट में ले रखा है जिसके चलते अलीगढ़ जनपद में 1 दिन अंदर 8 लोगों की मौत हो गई जबकि खैर विधानसभा क्षेत्र के राइट गांव में 1 दिन में 5 लोगों की मौत हो गई। गांव में हुई 5 लोगों की मौत से सन्नाटा पसरा हुआ है। 

गांव के लोगों का चेकअप शुरु कर दिया,इस दौरान गांव के बुखार व डेंगू पीड़ित लगभग 50 लोगों चेकअप किया गया। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने लोगों के ब्लड सेम्पल के साथ गांव में कई जगह से डेंगू लारवा के सेम्पल भी लिए। 

परिजनों का साफ तौर पर कहना है कि गांव के अंदर एक दिन में पाँच लोगों की मौत हो गई,लेकिन न तो स्वास्थ्य विभाग की तरफ से कोई पूछने आया और न ही जिला प्रशासन की तरफ से कोई जानकारी लेने पहुंचा है। गांव में मरने वालों के नाम रिजवाना बेगम, मुख्तार अली, जनाब बेगम, सद्दाम, लियाकत अली शामिल है। 

 

संबंधित समाचार

:
:
: