Headline • गौतम गंम्भीर ने साझा किए इमोशनल मैसेज • अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर पीएम मोदी  रांची  में करेगें योग • भारत को आतंक का नया ठिकाना बनाने की फिराख में है ISIS के आतंकी• अमेरिका के इस कदम से, कामकाजी भारतीयों को होगी परेशानी• चुनाव के बाद तेजस्वी कहाँ गायब हो गये है।• 14 साल बाद आया अय़ोध्या आतंकियों पर अदालत का फैसला • फिल्म ‘आर्टिकल 15’ विवादों में घिरती नजर आ रही है • अमरीका और ईरान का खाड़ी में तनाव गहराया • 'एक देश एक चुनाव' से विपक्ष क्यों नाराज• बिहार में बच्चों के मरने का कारण सरकार लिची को क्यों बता रही • बीजेपी के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष बने जे.पी. नड्डा • फिल्म आर्टिकल 15 को लेकर सुर्खियों में छाए रहे, आयुष्मान खुराना • लगातार दो शतक जड़ के शाकिब ने बांग्लादेश के लिए रचा इतिहास • एक बार फिर कथित लव-जिहाद का ममला सामने आया जाने पूरी खबर• बिहार में लू के कारण 246 मौतें, लगी धारा 144 • बॉलीवुड एक्ट्रेस सोनाली बेंद्रे को क्यो किडनैप करना चाहते थे शोएब अख्तर• सानिया मिर्जां के साथ पार्टी करना शोएब मलिक को पड़ा भारी।• केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन हुए परिजनों के गुस्से का शिकार • 17वी लोकसभा में प्रधानमंत्री मोदी विपक्ष पर बोले • नाना पाटेकर को क्लिन चिट मिलने पर तनुश्री दत्ता ने कहा• बीजेपी, टीएमसी के बाद अब बंगाल में कांग्रेस का नाम भी आया राजनीतिक हिंसा में• आगामी भारत और पाकिस्तान के मैच में कैसा रहेगा, मैनचेस्टर में मौसम का मिजाज• मांगो को मानने के लिए ममता सरकार को 48 घंटे का डॉक्टरों ने दिया अल्टिमेटम• इतनी फिल्मे करने के बाद भी क्यों सलमान खान को लगता है समीक्षको से डर !• भारत और इंग्लैड के बीच होगा फाइनल मैच: गूगल सीईओ सुन्दर पिचाई


रायबरेली: सरकार प्रदेश भर में वृद्ध व निराश्रित लोगों की देखभाल करने के लिये करोड़ों रुपये पानी की तरह बहा रही है। विश्व बैंक से लेकर तमाम ऑर्गनाइजेशन अलग अलग योजना चलाकर उनके हित की बात कर रहे हैं। मगर इसके उलट जमीनी स्तर पर इसकी हकीकत कुछ और ही है।

आंख मूंद कर काम करने वाले अधिकारी व कर्मचारी जीवित को मृत बताकर उसकी पेंशन बन्द कर दे रहे हैं। आफिस में बैठे बैठे ही असहाय विधवा वृद्धा को कागजों पर मार डालने वाले इन अधिकारियों की मानवता दर दर की ठोकरें खा रही बूढ़ी नम आंखों को देख कर भी नहीं जागी।

दरअसल, कागजों में वो दो साल पहले ही मर चुकी है। सामने आने पर भी सरकारी बाबू इन्हें जीवित मानने को तैयार नहीं है। ये हम नही खुद सरकारी कागज बता रहे हैं। इनका नाम भगवत देइ है। और यह जिले की डलमऊ तहसील क्षेत्र के मुरैठी गांव को रहने वाली हैं।

कुछ समय पहले इनके पति की मृत्यु हो गयी थी तो इनके ऊपर गमों का पहाड़ टूट पड़ा। इनको सरकार की तरफ से विधवा पेंशन मिलने लगी तो इनको लगा कि इनका वृद्धा अवस्था मे किसी के आगे हाथ नहीं फैलाने पड़ेंगे। मगर जिले के अधिकारियों ने ऐसी कलम चलाई कि अभिलेखों में भगवत देइ को जीते जी मार दिया गया।

वृद्धा भगवत देइ की माने तो लगभग दो वर्ष पूर्व उनके घर मे ब्लाक से सेक्रेटरी साहब कोई सर्वे करने आये और उनसे दस्तखत करवाये थे। तभी से उनकी पेंशन आना बंद हो गयी।

अब जब वह ब्लाक व तहसील से लेकर जिले के आलाधिकारियों के चक्कर लगाती हैं तो उनको यह कह कर वापस कर दिया जाता है कि आप तो मर चुकी हैं इसलिए आप की पेंशन बन्द कर दी गयी है। अब बेचारी वृद्धा को जिले के अधिकारियों व कर्मचारियों के सामने खुद के जिंदा होने का सबूत देना पड़ रहा है और अधिकारी है कि मानते ही नहीं।

संबंधित समाचार

:
:
: