Headline • मुंबई के डोंगरी में 4 मंजिला इमारत गिरी; 2 की मौत, 50 से ज्यादा लोगो के मलबे में फसे होने की आशंका• IAS टोपर को किया ट्रोल, मिला करारा जवाब • देर रात देखिये चंद्रग्रहण का नजारा, लाल नज़र आएगा चाँद • बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने भारत के लिए खोले बंद हवाई क्षेत्र ।• महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड• कर्नाटक संकट का असर राज्यसभा में• अहमदाबाद की अदालत  में राहुल गांधी• व्हाइट हाउस में भरा बारिश का पानी • क्या अनुपमा परमेसरन को डेट कर रहे जसप्रीत बुमराह


नई दिल्लीः एशिया कप 2018 के फाइनल मुकाबले में शानदार शतक बनाकर बांग्लादेश के ओपनर लिटन दास ने सबकी नजरें अपनी ओर आकर्षित की। लिटन दास का नाम बांग्लादेश के साथ एशिया के दूसरे देशों में भी पॉपुलर हो गया। 

लिटन दास सोशल मीडिया पर भी काफी एक्टिव हैं। लिटन दास की फेसबुक पोस्ट पर इतना विवाद हुआ था कि उन्हें कहना पड़ा था कि ’मेरी पहली पहचान यह है कि मैं बांग्लादेशी हूं और धर्म हमें बांट नहीं सकता।

यह पोस्ट दुर्गा पूजा से जुड़ी हुई थी। यह घटना अक्टूबर 2015 की है। लिटन ने अपनी पोस्ट के जरिये अपने फैंस को दुर्गा पूजा की शुभकामनाएं दी थीं लेकिन कुछ यूजर्स ने उन्हें निशाना बनाया था।

एक यूजर ने तो यहां तक लिख दिया था, “मैं आपसे (लिटन से) कह रहा हूं कि इस तरह की धार्मिक पोस्ट न करिए। एक यूजर ने उनसे इस पोस्ट को हटाने के लिए कहा था।

अपने तर्क में उस यूजर का कहना था कि इस्लाम में मूर्ति पूजा को स्थान नहीं है। बाद में विवाद बढ़ने पर दास ने पोस्ट डिलीट करते हुए लिखा था, ’मेरी पहली पहचान यह है कि मैं बांग्लादेशी हूं और धर्म हमें बांट नहीं सकता।

13 अक्टूबर 1994 को बांग्लादेश के दिनाजपुर में जन्मे लिटन दास का पूरा नाम लिटन कुमार दास है. उनके पिता बच्चा दास स्वर्णकार हैं। वह दाएं हाथ से बल्लेबाजी करते हैं और विकेटकीपर भी हैं।

लिटन भारत के खिलाफ बहुत खेलते हैं. उन्होंने जून 2015 में भारत के खिलाफ टेस्ट और वनडे में डेब्यू किया था। बांग्लादेश के कई अखबारों ने लिटन दास को देश का भविष्य बताया है। फाइनल मैच में 117 गेंद में 121 रन की शानदार पारी खेली थी, जिसमें 4 छक्के शामिल थे। 

लिटन ढाका के प्रसिद्ध स्पोर्ट्स इंस्टीट्यूट बीकेएसपी के प्रोडक्ट हैं। इस इंस्टीट्यूट से ही शाकिब अल हसन, महमूदुल्लाह, मुशफिकर रहमान जैसे कई अंतरराष्ट्रीय स्टार निकले हैं। 

 

संबंधित समाचार

:
:
: