Headline • सोशल मिडिया पर नुसरत जहां की हुई बड़ी तारीफ• 2019 के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम बनी ऑस्ट्रेलिया• चंद्रबाबू नायडू का आलीशान बंगला बना खँडहर • पीएम मोदी के बयान पर सदन में हंगामा   • मसूद अजहर मौत के दरवाजे पर • सुनैना रोशन के ब्वॉयफ्रेंड रुहेल ने रोशन परिवार पर लगाया आरोप • माइकल क्लार्क ने बुमराह और कोहली के बारे में कहा• हफ्ते भर की देरी के बाद मानसून अब  देगा दस्तक  •  राम रहीम ने की पैरोल मांग• रणबीर कपूर और आलिया के रिश्ते पर लग सकती है मुहर • रूस अमेरिका से रिश्ते मधुर करने में जुटा • यूपी के 15 शहरों के लिए राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) की चेतावनी • मायावती का अखिलेश पर बड़ा आरोप, अखिलेश के कारण हुई हार• चेन्नई की प्यास बुझाने के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन• भारत की निगाह बड़ी जीत पर, अफगानिस्तान के खिलाफ विश्व कप में पहली बार भारत• बिहार में मानसून पहुंचने से लोगो ने ली राहत की सांस • एक बार फिर सदन में तीन तलाक के मुद्दे पर तीखी बहस • विश्व कप में अंतिम चार के लिए अपनी दावेदारी मजबूत करने उतरेगा भारत • संकट में कुमारस्वामी की सरकार, एचडी देवगौड़ा ने मध्यावधि चुनाव की आशंका जताई• अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंन्द मोदी का दुनिया को सन्देश। • गौतम गंम्भीर ने साझा किए इमोशनल मैसेज • अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर पीएम मोदी  रांची  में करेगें योग • भारत को आतंक का नया ठिकाना बनाने की फिराख में है ISIS के आतंकी• अमेरिका के इस कदम से, कामकाजी भारतीयों को होगी परेशानी• चुनाव के बाद तेजस्वी कहाँ गायब हो गये है।


वन विभाग में हुए घोटाले की परत दर परत खुलती जा रही है। वन विभाग में करोड़ोंं रूपये का घोटाला हुआ हैंं। ये घोटाला पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत व जीरो टोरेन्स वाली भाजपा वर्तमान मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सरकार में हो रहा है। इन घोटालाेेंं का मास्टर माइंड उत्तरी कुमाऊ वित्त संरक्षक डॉ आरपी सिंह को बताया जा रहा है। डीएफओ पंकज कुमार ने मुख्यमंत्री, भाजपा प्रदेश अध्‍यक्ष, वन मंत्री, अपर मुख्य सचिव व प्रमुख वन संरक्षक को पत्र लिख कर उत्तरी कुमाऊ संरक्षक डा आरपी सिंह पर भ्रष्टाचार व करोड़ों केे घोटालेे का अरोप लगा कर उनकी जांच कर कार्यवाही की मांग की है।

उत्तरी कुमाऊ संरक्षक ने करोड़ों के घोटाले पर कोई कार्यवाही ना हो इसके लिए उन्होंंने डीएफओ पंकज कुमार का तबादला कर दिया। जिसको डीएफओ ने हाईकोर्ट से स्टे ला कर दुबारा अल्मोडा में तैनाती की, जिसके बाद वन संरक्षक ने डीएफओ के खिलाफ साजिस कर पूरे स्टाफ को उनके खिलाफ आन्दोलन के लिए मजबूर कर उनका दुबारा तबादला किया गया। डीएफओ पंकज कुमार ने मुख्यमंत्री, भाजपा प्रदेश अध्‍यक्ष, वन मंत्री, अपर मुख्य सचिव व प्रमुख वन संरक्षक को पत्र लिख कर वन विभाग में हुए घोटाले व भ्रष्टाचार का खुलासा कर उनके खिलाफ कार्यवाही की मांग की है।

डीएफओ पंकज कुमार ने लिखे पत्र पर कहा कि आईपी सिंह लम्बे समय से भ्रष्टाचार में लिप्त है। जब आईपी सिंह प्रभागीय वनाधिकारी पद पर पिथौरागढ़ में तैनात थे तब उन्होंंने भ्रष्टाचार की सभी हदें पार कर दी थी। बकर लीफ योजना में बाजार की दरों से अधिक दरों पर करोड़ों का सामान उत्तराखण्ड क्रय नियमावली के विपरीत मोटा कमीशन लेकर क्रय किया गया था।

ये पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के काफी नजदीकी थे उन्ही के दबाव में जायका योजना और कई करोड दैवीय आपदा में दिलायेे गए। इस पैसे में मोटा कमीशन लिया और कोई काम नही कराया गया।मुख्यमंत्री घोषणा के तहत करोड़ों पैसा मिला लेकिन आरपी सिहं ने मोटा कमीशन लेकर बहुत ही कम काम कराया और कई पुराने कामों को व दूसरी योजनाओं में कराए गए कार्यों को इस योजना में दिखाया। इसके लिए इन्होंंने डीडीआर रेजरों को अटेच कर दिया और डिप्टी रेजरों को चार्ज दिया गया ताकि वे 50 से 60 प्रतिशत तक कमीशन दे सके।

आर पी सिंह ने पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत से मिलकर अपनी पोस्टिंग वन संरक्षक अल्मोडा के पद पर करायी ताकि इनके पुराने कामों में की गयी अनियमितताओं की जांच न हो सके। अल्मोडा कोसी परियोजना में भी 2 करोड़ रूपये का घोटाला किया गया है।

कोसी परियोजना में दो करोड़ कैम्पा योजना में विभाग दिया गया जिसमें अभी तक कोई काम नही कराया गया जो सामान खरीदा गया वह भी नियमों को दर किनार कर अपने मनचाहे ठेकेदारों से मिलकर खरीदा गया। जब यह मामला डीएफओ पंकज कुमार के पास आया तो उन्होंंने इसकी जांच शुरू कर दी। तो कर्मचारी को उनके खिलाफ भड़का कर आन्दोलन खड़ा कर दिया गया। जिससे कि इस पूरे घोटाले पर पानी फेरा जा सके।

संबंधित समाचार

:
:
: