Headline • महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड• कर्नाटक संकट का असर राज्यसभा में• अहमदाबाद की अदालत  में राहुल गांधी• व्हाइट हाउस में भरा बारिश का पानी • क्या अनुपमा परमेसरन को डेट कर रहे जसप्रीत बुमराह• पाकिस्तान को आंख दिखाता नाग• यूएई और भारत के बीच द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर होगी बात• कर्नाटक में सियासी संकट• सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों है: राहुल गांधी


अक्टूबर माह में प्रदेश की त्रिवेन्द्र सिंह रावत सरकार ने प्रदेश में निवेश के लिए बड़ा जलसा किया था। देश भर के बडे उधोगपतियों को बुलाने का दावा किया गया था। हालांंकि बड़ी कंपनियों के प्रतिनिधि तो पहुंंचे लेकिन अंबानी ,अडाणी समेत बड़ी संख्या में बडे उधोगपति पीएम मोदी के आने के बावजूद अपनी उपस्थिति दर्ज कराने भी नहीं पहुंंचे।

सरकार का दावा था, की प्रदेश के विभिन्न सेक्टरों में सरकार को लगभग 1 लाख 25 हजार करोड़़ के निवेश के प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। जिसे सरकार ने अपनी बडी उपलब्धी बताया था। सरकार ने दावा तो बड़े निवेश का कर दिया लेकिन आंकडों की माने तो कुल प्रस्तावों का 8 से 10 प्रतिशत भी नहीं आया है। सरकार दावा कर रही है की लगभग 10 हजार करोड़ के प्रस्तावों को मंजूरी दे दी गई है। हालांकि सरकार के पास लैंड बैंक की कमी है और उधोग के लिए सरकार प्रदेश के विभिन्न इलाकों में लैंडबैंक बनाने की कोशिशों में जुटी हैंं। सरकार अब निजी भूमि स्वामियों से भी भूमि खरीदने की बात कर रही है। ताकि उधोगों की जमीन की जरूरत को पूरा किया जा सके।

हालांंकि प्रदेश के मुख्यमंत्री इसी बात को लेकर अपनी पीठ थपथपा रहे हैं। की पिछले 18 सालों में प्रदेश में 40 हजार करोड़ का निवेश आया और हमारी सरकार ने 4 महिने में ही 12 हजार करोड़ का निवेश प्रदेश में ला दिया है। हालांंकि उनके अनुसार आगे भीी निवेश आता रहेंंगा ।

संबंधित समाचार

:
:
: